13वीं किस्त से पहले मोदी सरकार ने किसानो को दिया बड़ा तोहफा, खाते में आयेगे पूरे 15 लाख रुपय, ऐसे करें आवेदन

PM  Kisan Yojana:  अगर आप भी भारत देश के एक किसान है तथा आप कुछ अन्य किसानो को एक साथ मिलाकर अर्थात किसानों में आपसी संगठन करके उत्पादक समूह चलाते है तो आपके लिए देश के माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी अर्थात केंद्र सरकार एफपीओ योजना कि शुरुआत कि हैं। जिस योजना के तहत आप अभी किसानों को 15 लाख रुपये तक मिल सकते हैं इसकी पूरी जानकारी विस्तार से जानने के लिए पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें।

वही आपको बता दें कि, पीएम किसान एफपीओ योजना  में, आवेदन करने के लिए यह जरुरी है कि, आपके  किसान उत्पादक समूह  में कम से कम  11 किसान  हो तथा आपके इस किसान उत्पादक समूह  को विकसित करने के लिए भारत सरकार  ने, कुल  15 लाख रुपयो  की  आर्थिक सहायता  प्रदान की जायेगी ताकि आप अपने  किसान उत्पादन समूह  को विकसित कर सकें।

इसके अलावा इस पोस्ट के अन्त में, हम आपको डायरेक्ट व क्विक लिंक्स  प्रदान करेगे जिस लिंक कि मदद से आप सभी किसान इस योजना में, जल्द से जल्द आवेदन कर इसका लाभ उठा सकेंगे।

PM Kisan Yojana
PM Kisan Yojana

PM Kisan FPO Yojana – Highlights

Name of the ArticlePM Kisan FPO Yojana
Type of ArticleSarkari Yojana
Who Can Apply?A 11 Members Farmers Group Can Apply Under This Scheme.
Mode of Application?Online
Financial Assistance?15 Lakh Rs
Official Websitepmkisan.gov.in

PM Kisan Yojana

स्वागत करते हैं आज कि इस पोस्ट में उन सभी देश के किसानों का जो किसान आपस में मिल जुल कर अर्थात एक संगठन को को बनाकर अधिक से अधिक फसलों का उत्पादन करते हैं। क्योंकि आज का हमारा यह पोस्ट इन्ही सभी किसानों के लिए हैं क्योंकि आज की इस पोस्ट के माध्यम से उन सभी किसानों को बताने वाले हैं कि केंद्र सरकार ने एक योजना की शुरू आत कि हैं। जिस योजना के तहत देश के ऐसे संगठन किसानों को टीम को 15 लाख रुपये तक कि आर्थिक सहायता प्रदान करेंगी। जिसकी पूरी जानकारी विस्तार से जानने के लिए पोस्ट को पढ़ना जारी रखें।

आपको जानकारी के लिए बतातें चलें कि, PM Kisan FPO Yojana में, आवेदन  करने के लिए आप सभी किसानो को ऑनलाइन माध्यम प्रक्रिया को अपनाना चाहिए। क्योंकि ऑनलाइन माध्यम से किसी भी काम को करना बेहद ही आसान होता हैं। वहीं आपको बता दें कि ऑनलाइन माध्यम से कैसे आवेदन करना है इसकी पूरी जानकारी विस्तार से इसी पोस्ट के नीचे बताया गया हैं। इसलिए पोस्ट को पढ़ना जारी रखें।

इसके अलावा इस पोस्ट के अन्त में, हम आपको डायरेक्ट व क्विक लिंक्स  प्रदान करेगे जिस लिंक कि मदद से आप सभी किसान इस योजना में, जल्द से जल्द आवेदन कर इसका लाभ उठा सकेंगे।

How to Apply Online in PM Kisan FPO Yojana ऐसे करें आवेदन?

पी.एम किसान एफ.पी.ओ योजना  में, ऑनलाइन आवेदन करने के लिए नीचे दिए गए स्टेप्स को ध्यानपूर्वक फ़ॉलो करें।

Stage 1 – Register Your Self

1. PM Kisan FPO Yojana  में, आवेदन करने के लिए सबसे पहले आप सभी आवेदक किसानो को इसकी  आधिकारीक वेबसाइट  के होम – पेज पर जाना होगा।

2. होम – पेज पर जाने के बाद आप सभी किसानो को FPO  का ऑप्शन मिलेगा।

3. जिस ऑप्शन पर आपको क्लिक कर देना हैं।

4. उसके बाद आपके सामने इसका एक नया पेज खुलेगा।

5. जिस पेज पर जाने के बाद आपको Registration  का विकल्प मिलेगा।

6. जिस पर आपको क्लिक कर देना हैं।

7. उसके बाद आपके सामने इसका  रजिस्ट्रैशन फॉर्म  खुलेगा।

8. जिस फॉर्म को ध्यानपूर्वक भर देना हैं।

9. उसके बाद आपको समबिट  के बटन पर क्लिक कर इसका  लॉगिन आई.डी व पासवर्ड  को प्राप्त कर ले।

Stage 2 – Login and Apply Online

1. पोर्टल पर अपना – अपना पंजीकरण करने के बाद आपको  मुख्य पेज  पर वापस जाना होगा।

2. जहां पर आपको Login Here का लिंक मिलेगा।

3. जिस लिंक पर आपको क्लिक कर देना हैं।

4. उसके बाद आपके सामनेे इसका  लॉगिन पेज  खुलेगा।

5. जिस पेज पर आपको सभी जानकारीयो को दर्ज कर पोर्टल में लॉगिन  कर लेना हैं।

6. पोर्टल मे लॉगिन  करने के बाद आपके  सामने इसका  आवेदन फॉर्म  खुलेगा।

7. जिस फॉर्म को ध्यानपूर्वक भर देना हैं।

8. उसके बाद मांगे जाने वाले सभी दस्तावेजो को  स्कैन करके अपलोड  कर देना हैं।

9. उसके बाद आपको सबमिट  के बटन पर क्लिक कर आवेदन की रसीद को डाउनलोड व प्रिंट कर सकते हैं।

Important Links

Official WebsiteClick Here
New Farmer RegistrationClick Here
Join Telegram GroupClick Here

FAQ’s – PM Kisan FPO Yojana

What is the difference between e-NAM and the existing mandi system?

e-NAM is not a parallel marketing structure but rather a device to create a national network of physical mandis which can be accessed online.It seeks to leverage the physical infrastructure of the mandis through an online trading portal, enabling buyers situated even outside the Mandi/ State to participate in trading at the local level.

How will e-NAM operate?

The e-NAM electronic trading platform has been created with an investment by the Government of India (through the Ministry of Agriculture & Farmers’ Welfare).It offers a “plug-in” to any market yard existing in a State (whether regulated or private). The special software developed for e-NAM is available to each mandi which agrees to join the national network free of cost with necessary customization to conform to the regulations of each State Mandi Act.

Are there any conditions for joining e-NAM?

States interested to integrate their mandis with e-NAM are required to carry out following three reforms in their APMC Act.a) Single trading license (Unified) to be valid across the stateb) Single point levy of market fee across the state; andc) Provision for e-auction/ e-trading as a mode of price discovery

Will the APMC mandis lose out business due to e-NAM?

Mandis do not lose any business. e-NAM basically increases the choice of the farmer when he brings his produce to the mandi for sale. Local traders can bid for the produce, as also traders on the electronic platform sitting in other State/ Mandi. The farmer may choose to accept either the local offer or the online offer. In either case the transaction will be on the books of the local mandi and they will continue to earn the market fee. In fact, the volume of business will significantly increase as there will be greater competition for specific produce, resulting in higher market fees for the mandi.

Who will actually operate the e-NAM platform?

Ministry of Agriculture & Farmers’ Welfare, Govt. of India has appointed Small Farmers’ Agribusiness Consortium (SFAC) as the Lead Implementing Agency of e-NAM. SFAC will operate and maintain the e-NAM platform with the help of a Strategic Partner, presently NFCL.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *